वोट मांगने के लिए शायरी । Vote Mangne Ke Liye Jabardast Shayari । वोट मांगने वाला शायरी

0

वोट मांगने के लिए शायरी ।

“सबकी सुनें, सभी को जानें। निर्णय अपने मन का मानें”

“यदि आप मतदान नहीं करते हैं, तो आप शिकायत करने का अधिकार खो देते हैं।”

“वोट डालने जाना है। अपना फर्ज़ निभाना है।।”

“एक वोट से होगी जीत-हार। वोट न हो कोई बेकार”

“वोट देना हमारा अधिकार है। कोई भी हमें इससे वंचित नहीं कर सकता”

“किसी के बहकावे में मत आना, सोच-समझकर बटन दबाना”

“वोट करें वफादारी से, चयन करें समझदारी से”

“वोट की कीमत कभी न लेंगे। लेकिन वोट ज़रूर देंगे”

“जो सच्चा मतदाता है वो कभी ना मुँह की खाता है”

“न जाति पे, न धर्म पे। बटन दबेंगा, कर्म पे”

“छोड़ो अपने सारे काम। पहले चलो करें मतदान”

“बूढ़े या हो जवान, सभी करो मतदान”

“कभी न लेंगे इसका मोल वोट हमारा है अनमोल।”

वोट मांगने के लिए शायरी
वोट मांगने के लिए शायरी
स बार होगा नहीं किसी से भेदभाव
विकास का होगा हर क्षेत्र में एक समान बहाव
आप सभी क्षेत्रवासियों से है यही अपील
वोट देकर ईमानदार को इस बार जिताना चुनाव
नेता नहीं बेटा बन कर आया हूँ
चुनाव प्रचार तो बस एक बहाना है
आप सब का लेने आशीर्वाद आया हूँ ।

चुनाव जीतने को जी,
गिद्ध नेता चले नई चाल ।
पहन गधे सी सफ़ेद खाल,
फैलाये फंसाने का जाल ।

झूठी बातों पर यकीन करा लेते हैं
रहता है सच्चाई का अभाव,
अब ध्यान रखना है आपको
नजदीक आ गए हैं चुनाव।

कहीं नल में जल नहीं, कहीं गांव का रस्ता कच्चा
स्कूलों की हालत जर्जर है बताओ पढ़ने कहाँ जाए बच्चा
वोट की ताक़त से हालात इस बार बदलेंगे
प्रतिनिधी चुनेंगे इस बार ईमानदार और नियत का सच्चा ।    वोट मांगने के लिए शायरी ।

वोट मांगने के लिए शायरी । Vote Mangne Ke Liye Jabardast Shayari । वोट मांगने वाला शायरी

झूठे वादों और ख्याली पुलावों से
नहीं होना है भ्रमित,
चुनाव के समय में झूठे नेताओं को
अपने मतदान से करना है चित्त।

चुनाव आए हैं तो
यह नेता पकड़ रहे हैं हमारे पैर,
नहीं तो इन नेताओं को जरा भी
नहीं रहती है जनता की खैर।

जनता के साथ रहकर
जनता को देते हैं धोखा,
भ्रष्टाचार को पनपाकर यह
देश को बनाते हैं खोखा।

महंगाई बढ़ जाने से आसमान को
छूने लगता है चीजों का भाव,
फिर भी राजनीति की कड़क दवा
देकर नेता जीत जाते हैं चुनाव।

जब चुनाव आते हैं करीब,
तो नेताओं को याद आते हैं गरीब।    वोट मांगने के लिए शायरी ।

चुनाव के दौरान हर कोई अपनी दलील देता है,
चांद तारों को धरती पर लाने की अपील करता है ।
प्यारे दोस्तों सोच समझकर वोट देना,
चुनाव जीतने के बाद नेता ही जनता को जलील करता है ।    (वोट मांगने के लिए शायरी ।)

झूठे वादों के बहकावे में आकर
नहीं करना है झूठे नेताओं को मतदान,
जागरूक नागरिक का फर्ज निभा कर
देश को आगे बढ़ाने में करना योगदान।

आपके हर आदेश को मैं क़ुबूल करता हूँ
क्षेत्र के विकास को अपना उसूल करता हूँ
हाथ जोड़कर आप सभी क्षेत्रवासियों से
मेरे पक्ष में वोट के लिए अपील करता हूँ ।

जनता को दिला रहे हैं फिर से विश्वास,
5 साल बीत गए
फिर भी नहीं बुझी है इनकी प्यास।

विकास के लिए यही दलील, वोट देकर मेरा साथ देना । आप सभी से मेरी यही अपील ।

आजकल वोट का हाल भी बेहाल हो रहा है,
आम इंसान का हक सरेआम नीलाम हो रहा है ।

जो लालच में आकर वोट बेच देते है,
वे बेईमानों के हाथों देश बेच देते है ।

मैं वोट हूँ,
मुझसे ही पक्ष है,
मुझसे ही विपक्ष है,
मैं एक नागरिक का अधिकार हूँ,
बहुमत में रहूँ तो सरकार हूँ । (वोट मांगने के लिए शायरी ।)

चुनावी दौर में वोटों के बाजार लगते है,
एक वोट के दस-दस खरीददार मिलते है ।

मैं नेताओं का कोट हूँ,
उनके अकाउंट का नोट हूँ,
मेरी ताकत को तुम समझते नही
इसलिए मैं सिर्फ एक वोट हूँ ।  वोट मांगने के लिए शायरी ।

दोस्तों कैसा लगा वोट मांगने के लिए शायरी हमें comment में बताए ।

जवाब दे

अपना कोमेंट लिखे
अपना नाम लिखे

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.